बजरंग पूनिया का जीवन परिचय | Biography of Bajrang Puniya in Hindi

Bajrang Puniya Biography

इंग्लैंड के बर्मिंघम शहर में चल रहे 2022 कॉमनवेल्थ गेम्स में हमारे देश के रेसलर बजरंग पुनिया ने गोल्ड मेडल यानी स्वर्ण पदक हासिल किया है। बजरंग पुनिया ने ओलंपिक में भी हमारे देश को रजत पदक हासिल करके पहचान दिलाई थी।

Read More : Achinta Sheuli Biography In Hindi

Image Source – Google| Image by – Virender Yadav

बजरंग पुनिया के गोल्ड मेडल हासिल करने के कारण भारत के लगभग सभी लोग इन महान रेसलर के बारे में जानना चाहते हैं और इनके जीवन से प्रेरणा लेना चाहते हैं। इसलिए आज के इस लेख में हम बजरंग पूनिया का जीवन परिचय बताने जा रहे हैं। यदि आप भी बजरंग पुनिया से संबंधित जानकारी पाना चाहते हैं तो इस लेख में अंत तक जरूर बने रहे।

पूरा नामबजरंग पुनिया
पेशाफ्री स्टाइल रेसलर
जन्मतिथि26 फरवरी 1994
उम्र27 साल
जन्म स्थानखुदान गाँव, झज्जर हरियाणा
पिता का नामबलवान सिंह पूनिया
माता का नामओमप्यारी पूनिया
शौकबास्केट बॉल खेलना, फुटबॉल खेलना और रिवर राफ्टिंग
होमटाउनहरियाणा
हाइट1.66 m
वजन65 किलोग्राम
शादी25 नवंबर, 2020
पत्नीसंगीता फोगाट

बजरंग पुनिया का प्रारंभिक जीवन

बजरंग पुनिया का जन्म 26 फरवरी 1994 को हरियाणा के झज्जर शहर के खुदान गांव में हुआ था। का जन्म हरियाणा के हिंदू जाट परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम बलवान सिंह पुनिया तथा माता का नाम ओम प्यारी पुनिया है। बजरंग के पिता भी अपने गांव में एक बहुत बड़े पहलवान रह चुके हैं और इनके भाई हरेंद्र पुनिया भी एक पहलवान हैं। बजरंग पुनिया को बास्केटबॉल फुटबॉल आदि चीजों में काफी रूचि थी परंतु इनके परिवार की आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण यह कुश्ती और कबड्डी जैसे खेलों में ही भाग लेते थे पुलिस टॉप क्योंकि यह खेल मुफ्त में खेले जाते थे।

Read Also : Achinta Sheuli Biography In Hindi

बजरंग पुनिया का शैक्षणिक जीवन

बजरंग पुनिया ने अपने स्कूल की पढ़ाई अपने गांव खुदान से ही पूरी की है। और इनका ग्रेजुएशन महर्षी दयानंद यूनिवर्सिटी से पूरा हुआ था। ग्रेजुएशन करने के बाद इन्होंने इंडियन रेलवे में टिकट चेकर का भी काम किया था। इनके पिता पहलवानी में होने के कारण बजरंग ने भी 7 साल की उम्र से ही पहलवानी सीखनी शुरु कर दी थी। बचपन मैं बजरंग के पिता ने ही इन्हें कुश्ती के दाव पेच सिखाए थे। बजरंग के पिता ने उन्हें सुस्ती के स्कूल में भी दाखिला दिलाया था। इसके बाद 2008 में बजरंग छत्रसाल स्टेडियम गए और उन्हें रामफल मान द्वारा प्रशिक्षण दिया गया था।  बाद में बजरंग पुनिया ने योगेश्वर दत्त कोच कुश्ती सीखी थी। वर्तमान में बजरंग भारतीय रेलवे में राजपत्रित अधिकारी ओएसडी स्पोर्ट्स के पद पर कार्यरत हैं।

बजरंग पुनिया की शादी एवं पत्नी

बजरंग पुनिया की शादी उनके साथी पहलवान संगीता फोगाट के साथ 25 नवंबर, 2020 हुई है। बजरंग पुनिया की पत्नी संगीता फोगाट भी पेशे से एक पहलवान है। संगीता फोगाट की तीन बहने गीता बबीता और नीतू फोगाट है। इनके परिवार पर दंगल नामक एक फिल्म भी बनी थी जिसमें आमिर खान संगीता फोगाट के पिता बने थे।

Read Mores :

Affiliate Marketing क्या है और कैसे करे? 2022

How To Make Google Drive Account गूगल ड्राइव एकाउन्‍ट कैसे बनायें In Hindi 2022

Cloud Storage Kya Hai Hindi 2022

बजरंग पुनिया और संगीता फोगाट की शादी लॉकडाउन के समय हुई थी जिसमें उन्होंने पूरी तरह से लॉकडाउन के नियमों का पालन भी किया था।

बजरंग पुनिया का करियर

सन 2013 में बजरंग पुनिया ने एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में भाग लिया था। इसमें बजरंग ने उत्तर कोरिया के पुरुषों को हराकर कांस्य पदक जीता था।

उसके बाद 2013 में ही इन्होंने विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में हिस्सा लिया था जो कि हंगरी के बुडापेस्ट में आयोजित किया गया था। इसमें भी इन्होंने कांस्य पदक जीता था।

सन 2014 में बजरंग ने स्कॉटलैंड के राष्ट्रमंडल खेल में हिस्सा लिया था और वहां पर रजत पदक हासिल किया था।

2015 में इनका सारा परिवार सोन पत्र चला गया था ताकि बजरंग भारतीय खेल प्राधिकरण के और भी खेलों में हिस्सा ले सकें। 2015 में इन्होंने विश्व कुश्ती चैंपियनशिप प्रो रेसलिंग लीग में भाग लिया था।

इसके बाद सन् 2017 में दिल्ली के एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में इन्होंने फिर से हिस्सा लिया और पहली बार गोल्ड मेडल जीता था। इसके बाद दो हजार अट्ठारह में उन्होंने राष्ट्रमंडल खेल में हिस्सा लेकर गोल्ड मेडल जीता और 2021 में भी इन्होंने एशियन गेम्स में हिस्सा लिया था जहां पर इन्होंने ब्रोंज, सिल्वर और गोल्ड तीनों मेडल जीते।

2021 में टोक्यो में ओलंपिक में भी इन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया हालांकि यह फाइनल तक नहीं पहुंच पाए परंतु इन्होंने सेमीफाइनल तक पहुंच कर कांस्य पदक हासिल किया था।

बजरंग पुनिया के 2022 कॉमनवेल्थ गेम्स की उपलब्धि

2022 में चल रहे कॉमनवेल्थ गेम्स में बजरंग पुनिया ने लगातार गोल्ड मेडल जीते हैं। इन्होंने कुश्ती के एक मैच के समय से भी कम समय में सबसे पहले तीन मैच जीते और फाइनल में पहुंचकर बहुत ही कम समय में जीत हासिल की। बजरंग पुनिया ने चार मैचों के लिए कुल 9 मिनट और 18 सेकेंड का वक्त लिया।

बजरंग पुनिया के पुरस्कार

बजरंग पुनिया को पहलवानी के लिए कई बड़े पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया है।

  • 2013 और 2015 में इन्हें डेव स्कूल मेमोरियल टूर्नामेंट पुरस्कार प्राप्त हुआ था।
  • 2015 में इन्हें भारत सरकार द्वारा अर्जुन अवार्ड भी दिया गया था।
  • 2019 में इन्हें सबसे पहले सेंट्रल गवर्नमेंट की तरफ से पद्मश्री पुरस्कार और राजीव गांधी खेल रत्न अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था।

Read Also:

Online Marketing क्या है और कैसे करे? 2022 में (Online Marketing Kya Hai Hindi)

Types Of Operating Systems In Hindi – 2022

10 तरीके Instagram Par Follower Kaise Badhaye? 2022

निष्कर्ष

आज के इस लेख मे हमने आपको बजरंग पुनिया का जीवन परिचय बताया। उम्मीद है इस लेख के माध्यम से आपको बजरंग पुनिया के बारे मे पूरी जानकारी मिल पायी होगी। यदि आपके मन मे इस लेख से संबन्धित कोई प्रश्न हो तो आप हमे कमेंट कर सकते है और सवाल पूछ सकते है।

FAQ :

बजरंग पूनिया कौन हैं ?

बजरंग पूनिया एक फ्री स्टाइल रेसलर हैं |

बजरंग पूनिया की पत्नी कौन हैं ?

बजरंग की पत्नी का संगीता फोगाट है और ये भी एक रेसलर हैं |

बजरंग पूनिया का जन्म कहाँ हुआ ?

इनका जन्म खुदान गाँव , झज्जर , हरियाणा में हुआ था |

कॉमनवेल्थ 2022 में इनको कौनसा मैडल मिला ?

गोल्ड मैडल जीतकर मान बढाया देश का |

Leave a Comment

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap