इक्विटी क्या होता है? (Equity meaning in hindi business?) 2022

सरल शब्दों में इक्विटी का अर्थ है किसी कंपनी में हिस्सेदारी है। जैसा कि आप जानते हैं कि जब भी हम किसी कंपनी का शेयर खरीदते हैं तो हम उस कंपनी के कुछ हिस्से के मालिक बन जाते हैं। कंपनी के उस हिस्से को ही business की भाषा में इक्विटी कहा जाता है।

दूसरे शब्दों में कहा जाए तो यदि आप किसी कंपनी के शेयर को खरीद रहे हैं तो इसका मतलब यह है कि आप उस कंपनी के equity को खरीद रहे हैं।

उदाहरण– मान लीजिये की, आपने एक कंपनी का 2 शेयर खरीदा और कंपनी ने अपने 100 शेयर मार्केट में जारी किए थे जोकि कंपनी के वैल्यूएशन के 50% इक्विटी के बराबर था। अब आपने 2 शेयर खरीदे हैं तो आप उस कंपनी में 2% हिस्से के मालिक बन जाएंगे।

इक्विटी के प्रकार(Types of equity)
स्टेकहोल्डर्स इक्विटी (Stakeholders’ equity)
प्रेफरेंस इक्विटी (Preference Equity)

what is Equity meaning in hindi

Equity meaning in hindi

स्टेकहोल्डर्स इक्विटी (Stakeholders’ equity)

स्टेकहोल्डर इक्विटी, जिसे शेयरधारकों की इक्विटी और ओनर्स इक्विटी(Owner’s equity) भी कहा जाता है, वह राशि होती है जिसे कंपनी की liabilities में से घटाकर शेयरधारकों को दी जाती है।
आमतौर पर कंपनियां पूंजी जुटाने के लिए ऋण या इक्विटी जारी करती है।

अधिकतर शेयरधारक इक्विटी में ही निवेश करते हैं क्योंकि यह किसी कंपनी के मुनाफे और विकास में हिस्सा लेने का अधिक अवसर प्रदान करती है। कंपनी को अधिक मुनाफा होता है तो सभी शेयरधारकों को अधिक पैसा मिलता है, दूसरी तरफ यदि कंपनी को नुकसान होता है तो शेयरधारकों को नुकसान का वहन करना पड़ता है।

शेयरधारकों की इक्विटी की गणना (Calculation of Stakeholders equity)

शेयर होल्डर्स के इक्विटी की गणना करने के लिए निम्न सूत्र का प्रयोग किया जाता है।
Shareholders’ Equity = Total assets – Total Liabilities

सरल शब्दों में कहा जाए तो शेयर होल्डर की इक्विटी ज्ञात करने के लिए कंपनी के पूरी संपत्ति में से पूरे लायबिलिटीज को घटा दिया जाता है।
स्टेकहोल्डर्स की इक्विटी को कंपनी के अंतिम खाते में लायबिलीटीज की तरफ दर्शाया जाता है।

प्रेफरेंस इक्विटी (Preference Equity)

प्रेफरेंस इक्विटी में कंपनी शेयरधारकों को शेयर के बदले डिविडेंड प्रदान करती है। इसमें कंपनी शेयरधारकों को लाभ प्रदान करने के साथ-साथ हर साल ब्याज भी प्रदान करती है। प्रेफरेंस इक्विटी का यह लाभ होता है कि यदि इसमें कंपनी को मुनाफा नही हुआ तो भी इन शेयरधारकों को ब्याज जरूर प्राप्त होता है।

इक्विटी शेयरों के लाभ (Profit of Equity Share)

इक्विटी शेयर खरीदने पर आपको क्या-क्या लाभ प्राप्त हो सकते हैं इस बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं।

अधिक रिटर्न –

इक्विटी शेयर का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें कंपनी को जितना फायदा होता है उतना ही फायदा आपको भी होता है। यदि आपने किसी बड़ी कंपनी के शेयरों में निवेश किया है तो आपको उस इक्विटी के बदले अधिक रिटर्न भी प्राप्त होगा।
निवेश करना आसान –

इक्विटी शेयर में निवेश करना आसान होता है। शेयर में निवेश करने के लिए आपको केवल एक डीमैट अकाउंट की जरूरत होती है। आप अपने मोबाइल के द्वारा ही डिमैट अकाउंट खोल सकते हैं और इक्विटी शेयर में निवेश कर सकते हैं।
निवेश में परिवर्तन

इक्विटी शेयर के माध्यम से आप अधिक मुनाफा कमा सकते हैं और उस मुनाफे के साथ आप अन्य और जगहों पर निवेश कर सकते हैं जिससे आपको अधिक रिटर्न भी प्राप्त होगा। निवेश में परिवर्तन करने से आपका पोर्टफोलियो भी मजबूत होगा।

इक्विटी शेयर के नुकसान (Losses of Equity Share)

इक्विटी शेयर से यदि अधिक लाभ प्राप्त हो सकता है तो इससे कुछ नुकसान भी हो सकता है जो इस प्रकार हैं-

शेयर मार्केट में हमेशा अस्थिरता बनी रहती है। जिसके कारण शेयरधारकों को काफी नुकसान का वहन करना पड़ता है और उनकी संपत्ति को भी गवाना पड़ता है इसलिए शेयर मार्केट में पूरी जानकारी के साथ ही निवेश करना चाहिए।

जैसा हमने आपको बताया कि यदि कंपनी को अधिक लाभ प्राप्त होता है तो इक्विटी शेयर धारकों को भी अधिक लाभ मिलता है लेकिन उसी जगह अगर कंपनी को नुकसान होता है तो इक्विटी शेयर धारकों को नुकसान का भी वहन करना पड़ता है।


इक्विटी शेयर धारकों को कभी-कभी लिक्विडिटी रिस्क भी झेलना पड़ता है। लिक्विडिटी रिस्क में शेयरधारकों को अपना शेयर कम दाम में बेचना पड़ जाता है जिससे उनको नुकसान होता है।


यदि कोई कंपनी बढ़ते हुए महंगाई के साथ अपनी कंपनी को नहीं बढ़ा पा रही है तो ऐसे में भी इक्विटी शेयर धारकों को नुकसान का वहन करना पड़ता है।

इक्विटी मार्केट क्या होता है? (What is equity market?)

जैसा कि आप जानते हैं जब कोई कंपनी बाजार में अपने शेयर जारी करती है तो उन शेयर को इक्विटी कहा जाता है। उस तरह यह इक्विटी का लेनदेन जिस बाजार में होता है उसे इक्विटी मार्केट कहते हैं। इक्विटी मार्केट को स्टॉक मार्केट तथा शेयर मार्केट भी कहा जाता है।

इक्विटी ट्रेडिंग किसे कहते हैं? (What is Equity on trading?)

किसी कंपनी के शेयर को खरीदने एवं बेचने की प्रक्रिया की इक्विटी ट्रेडिंग कहलाती है। इक्विटी ट्रेडिंग को इक्विटी व्यापार भी कहा जाता है।

इक्विटी से लाभ कैसे प्राप्त होता है? (How to get profit from Equity?)

यह तो आप जानते ही हैं कि जब भी आप किसी कंपनी का इक्विटी या शेयर खरीदते हैं तो आप उस कंपनी के कुछ हिस्से के मालिक बन जाते हैं। अब जैसे-जैसे कंपनी को लाभ प्राप्त होता है वैसे वैसे आपको भी उस इक्विटी से लाभ प्राप्त होता जाता है।

उदाहरण के लिए, आपने रिलायंस कंपनी का शेयर खरीदा अब आप रिलायंस कंपनी के कुछ हिस्से के मालिक बन गए हैं। यदि रिलायंस कंपनी को मुनाफा होता है तो उस मुनाफे का कुछ हिस्सा आपको भी मिलेगा। यदि आपकी रिलायंस कंपनी में 2% हिस्सेदारी होगी तो आपको कुल मुनाफे का 2% प्राप्त होगा।
इसी प्रकार से इक्विटी से लाभ प्राप्त किया जा सकता है।

निष्कर्ष (Conclusion) – Equity meaning in hindi

आज के इस लेख में हमने आपको equity meaning in hindi business के बारे में जानकारी दी। उम्मीद करते हैं कि आपको इक्विटी से संबंधित सभी जानकारियां मिल पाई होंगी यदि आपके मन में इससे संबंधित कोई प्रश्न है तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है।

Hey, I’m Indrajeet Singh Ranawat, A Part Time Blogger, YouTuber, Affiliate Marketer, And Founder Of UniqeBlog.Com And Uniqeblog.in. A Guy From The Crowded Streets Of India Who Loves To Eat, Both Food And Digital Marketing.

Leave a Comment

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap